खटमल मारने की दवा
घरेलू उपचार

खटमल मारने की दवा | खटमल से छुटकारा पाने के 11 अचूक उपाय

शोध के मुताबिक़ इनमें खटमलों की चमड़ी का मोटा हो जाना भी शामिल है. मोटी चमड़ी ज़हर को रिस कर अंदर जाने से रोकती है. इस वजह से ज़हरीले पदार्थ खटमल के तंत्रिका तंत्र को प्रभावित नहीं कर पाते हैं.

खटमल मारने की दवा | खटमल से छुटकारा पाने के 11 अचूक उपाय

खटमल 3 महीनों या उससे भी ज्यादा समय तक खून पिये बिना जीवित रह सकते हैं और इस दौरान वे अपने स्थानों पर छिपे रह सकते हैं  खटमल आपके शरीर के किसी भी भाग को आसानी से काट सकते हैं जिसकी वजह से आपको खुजली, चकत्ते और फफोले हो सकते हैं। इन रेंगनेवाले खौफनाक कीड़ों के बारेमें सोचते ही हमारी रातों की नींद उड़ जाती है। खटमल पूरी दुनिया की सैर करने वाले यात्री कीट हैं, जो कि  कपड़ों, चादरों और फर्नीचर के द्वारा आसानी से दुनिया के किसी भी कोने तक पहुँच जाते हैं | आगे पढ़ियें कि कैसे अपने घर में मौजूद खटमलों से छुटकारा पाया जाये |

काले अखरोट की चाय:

टी ट्री का स्प्रे:

  • सर्फ युक्त पानी में टी ट्री तेल की कुछ बूंदे डाल कर सारी चादरें और कपड़ें धोयें |
  • सभी कालीनों को वेक्क्युम करें और धोयें |
  • सभी बिस्तरों को खोल कर उनमे टी ट्री तेल स्प्रे करें |
  • पूरे घर (अन्दर और बाहर) में, कीटनाशक स्प्रे करें | इस स्प्रे को बनाने के लिए: करीब 530 मिलीलीटर पानी में टी ट्री तेल की 18 बूँदें डालें और इस मिश्रण को पूरे घर में स्प्रे करें – कालीन, बेड और फर्नीचर |

पुदीना :

खटमल पुदीना की गंध को सहन नहीं कर पाते हैं। तो कुछ पुदीने की पत्तियां लें और अपने बिस्तर के पास रख दें। अगर आपके घर में छोटे बच्चे हैं तो कुछ पुदीना के पत्ते उनके पलने में रख दें। पुदीने के पत्ते खटमलों को दूर रखते हैं। आप चाहें तो पुदीने के पत्तों को पीस कर अपने शरीर पर भी मल सकते हैं।

कायेन पेपर(लाल मिर्च)

यह गिनी राज्य का लाल मिर्च होता है, इससे खटमल बहुत जल्दी भागते हैं। आप खटमल भागने के लिए इसका पाउडर बना कर उनपर छिडकाव कर सकते हैं।

लैवेंडर

रोज़मेरी

लैवेंडर की ही तरह खटमल रोजमेरी की खुशबु भी बर्दाश्त नहीं कर पाते हैं। आप रोजमेरी का स्प्रे बनाकर भी इन पर छिड़क सकते हैं।

नीलगिरी

बीन की पत्तियां

नीम का तेल

यह सभी को स्वास्थ्य और सौंदर्य लाभ प्रदान करता है। नीम के बीज से प्राप्त किए जाने वाला तेल बहुत प्रभावशाली होता है। इसमें कई एंटी माइक्रोबियल गुण होते हैं जिसकी वजह से इसका इस्तेमाल कीड़ों को दूर रखने के लिए किया जाता है।  नीम के तेल को आप डाइल्यूट न करें। इसका इस्तेमाल इसके शुद्ध रूप में खटमलों पर किया जाना चाहिए। घर की सभी चीज़ों पर इसका छिड़काव करें और डिटर्जेंट के साथ इस तेल को मिलाकर ही कपडे धोएं।  बस अपने कालीन को धोने वाले शैम्पू में नीम का तेल मिलाएं और नीम के तेल के साथ अपने गद्दे को स्प्रे करें जिससे कि सभी खटमल, बैक्टीरिया या कवक को हटा देता है ।

थाइम (अजवाइन के फूल)

कलामस (स्वीट फ्लैग)

खटमलों को घर में घुसने से रोकें

  • खटमल दुर्लभ ही दिन के उजाले में दिखाई देते हैं | वे अपने छिपने के स्थान से रात के अँधेरे में ही बाहर आते हैं |
  • एक घर, होटल या अपार्टमेंट को पूरी तरह से खटमल मुक्त करने में कई घंटों से लेकर कई दिन तक लग सकते हैं |
  •  कुछ पेस्ट कंट्रोल कंपनियाँ सिर्फ गद्दे की सिलाई, टफ्ट (गड्डा) और दरारें में ही कीटनाशक डालती हैं, पर वे गद्दे की सतह, चादरों, रजाई और कपड़ों पर कीटनाशक स्प्रे नहीं करती | इस कारण से पेस्ट कंट्रोल कंपनियाँ अक्सर आपको खटमलों से संक्रमित बेड को फेंकने की सलाह देती हैं |
  • वालपेपर स्टीमर (वॉलपेपर को भाप से निकालने वाली मशीन), स्टीम मशीन का एक बेहतर और सस्ता विकल्प है |
  • परदों की सिलाई में मौजूद छेदों को जाँचें | खटमलों के छिपने और प्रजनन करने के लिए यह उनकी सबसे मनपसंद जगह है |
  • खटमल अक्सर गद्दों के किनारों पर पाये जाते हैं | तो उन हिस्सों को अच्छी तरह से जाँच लें |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *